IRA KI KAHANIYAN

Notion Press
Free sample

Principles in life are very important! They help you survive when you are hit hard by tough situations; they help you make right decisions and in setting your priorities in life, especially in this fast-changing world which is full of uncertainties. Ira ki Kahaniyan is the author’s attempt to share his life’s principles in the form of poetry. Since the book is aimed at educating children, the author reinforces the importance of hard work, relationships, friendship, good health, living in the moment, education, equality, power of dreams, importance of karma, festivals, patriotism, environment  and  gratitude through a wise little girl, Ira.

This is sure to be an enjoyable read for children and adults alike!
Read more
Collapse

About the author

Pranav completed a Masters in Sociology followed by which he went on to do an MBA. For the last fourteen years he has been working in the development sector, trying to find answers and solutions to social problems. Ira ki Kahaniyan is his first book.
Read more
Collapse
Loading...

Additional Information

Publisher
Notion Press
Read more
Collapse
Published on
May 4, 2018
Read more
Collapse
Pages
58
Read more
Collapse
ISBN
9781642497915
Read more
Collapse
Features
Read more
Collapse
Read more
Collapse
Language
Hindi
Read more
Collapse
Genres
Juvenile Fiction / Poetry
Read more
Collapse
Content Protection
This content is DRM free.
Read more
Collapse
Read Aloud
Available on Android devices
Read more
Collapse

Reading information

Smartphones and Tablets

Install the Google Play Books app for Android and iPad/iPhone. It syncs automatically with your account and allows you to read online or offline wherever you are.

Laptops and Computers

You can read books purchased on Google Play using your computer's web browser.

eReaders and other devices

To read on e-ink devices like the Sony eReader or Barnes & Noble Nook, you'll need to download a file and transfer it to your device. Please follow the detailed Help center instructions to transfer the files to supported eReaders.
 भारत भ्रमण – पर्यटन अपार, विरासत हजार में लिखी कवितायेँ विभिन्न विषयों पर हैं। भारत के त्यौहार, जीवन दर्शन, समसामयिक मुद्दे, बालिका शिक्षा, भारत का स्वतंत्रता संग्राम आदि के साथ-साथ भारत के समस्त राज्यों के मुख्य पर्यटन, धार्मिक स्थलों का विवरण देने वाली कविता “भारत भ्रमण” को इसमें समाहित करने का प्रयास किया गया है। 

भारत भ्रमण पर्यटन अपार विरासत हजार पुस्तक शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्र/छात्राओं, युवाओं, आम जन मानस हेतु शिक्षाप्रद, मनोरंजक होने के साथ-साथ देश विदेश के पर्यटकों को भारत के पर्यटन व धार्मिक स्थलों का काव्य रूप में विवरण देने में सहायक बनेगी| 

----

Call Us - 7017993445

Visit - https://www.rajmangalpublishers.com

Fb - http://www.facebook.com/rajmangalpublishers

Insta - https://instagram.com/rajmangalpublishers

Twitter - http://www.twitter.com/R_Publishers

http://rajmangalpublishers.com/book-store/

https://www.rajmangalpublishers.com/contact-us/

https://www.rajmangalpublishers.com/about-us/

https://www.rajmangalpublishers.com/submission


“चिलमन” के बाद “शजर” उसी कड़ी की दूसरी पुस्तक है| चिलमन में छोटी कविताएँ थीं, शजर में बड़ी कविताएँ हैं जो फिर से भावनात्मक ही हैं| बड़ी ही अच्छी तरह से हर कड़ी को जोड़ा गया है| कविताएँ मानव जीवन के हर पहलू को उज़ागर करती हैं| कई बार या यूँ कहें कि हर बार वह जीवन के किसी न किसी पहलू को छू ही जाती है| लेखिका पल्लवी नाहर शिक्षा, परिवार और समाज सहित कई क्षेत्रों का अनुभव रखती हैं, जिसकी वजह से उनकी लिखी कविताओं पाठकों को इन सभी क्षेत्रों का विस्तृत वर्णन मिलता है|

--

Call Us - 7017993445

Visit - https://www.rajmangalpublishers.com

Fb - http://www.facebook.com/rajmangalpublishers

Insta - https://instagram.com/rajmangalpublishers

Twitter - http://www.twitter.com/R_Publishers

http://rajmangalpublishers.com/book-store/

https://www.rajmangalpublishers.com/contact-us/

https://www.rajmangalpublishers.com/about-us/

https://www.rajmangalpublishers.com/submission



 प्रयासरत एक प्रक्रिया है, जो हमारे द्वारा किये जा रहे प्रयत्न की निरंतरता को दर्शाती है | वो प्रक्रिया जो हम किसी लक्ष्य को हासिल करने के लिए ज़रूरी मानते हैं | इस बीच स्वयं पर भी शंका होना स्वाभाविक हो जाता है। और फिर पीछे मुड़कर देखना और यह सोचना की क्या जो कर रहा हूँ वह सही है? क्या इसी सोच को लेकर चला था? क्या मेरी कल की विफलताएं आगे भी बनी रहेंगी, या आगे कुछ श्रेयस्कर करने की ऊर्जा बची है। जिसके लिए चलना आरंभ किया था। अब हाथ में सफलता भी है और प्रतिष्ठा भी। लेकिन यहाँ रुक जाना प्रयासरत होना नहीं है। क्योंकि 'लक्ष्य' कुछ और है। जो स्थायी हो और कुछ दिन की प्रशंसा से कहीं अधिक बढ़कर हो। जो भौतिक नहीं आत्मिक हो।
©2019 GoogleSite Terms of ServicePrivacyDevelopersArtistsAbout Google|Location: United StatesLanguage: English (United States)
By purchasing this item, you are transacting with Google Payments and agreeing to the Google Payments Terms of Service and Privacy Notice.