Khali Hone Ki Kala

WOW PUBLISHINGS PVT LTD
117

1 दस इच्छा
2 खाली होने का अनुभव
3 ईश्वर की कल्पना
4 स्वअनुभव
5 खाली को खाली रखें
6 स्वबोध की अवस्था
7 अंदर के ईश्वर को जगाएँ
8 बहानों में तैरना सीखें
9 महाशून्य अवस्था
10 शरीर आइना है
11 ‘मैं कौन हूँ’
12 मान्यता और कल्पनाओं की शेवाल
13 खाली होने के तरीके
14 प्रकाशित दिवारों का राज़
15 खाली होने की कला

Read more

About the author

सरश्री की आध्यात्मिक खोज का सफर उनके बचपन से प्रारंभ हो गया था| इस खोज के दौरान उन्होंने अनेक प्रकार की पुस्तकों का अध्ययन किया| इसके साथ ही अपने आध्यात्मिक अनुसंधान के दौरान अनेक ध्यान पद्धतियों का अभ्यास किया| उनकी इसी खोज ने उन्हें कई वैचारिक और शैक्षणिक संस्थानों की ओर बढ़ाया| इसके बावजूद भी वे अंतिम सत्य से दूर रहे| उन्होंने अपने तत्कालीन अध्यापन कार्य को भी विराम लगाया ताकि वे अपना अधिक से अधिक समय सत्य की खोज में लगा सकें| जीवन का रहस्य समझने के लिए उन्होंने एक लंबी अवधि तक मनन करते हुए अपनी खोज जारी रखी| जिसके अंत में उन्हें आत्मबोध प्राप्त हुआ| आत्मसाक्षात्कार के बाद उन्होंने जाना कि अध्यात्म का हर मार्ग जिस कड़ी से जुड़ा है वह है - समझ (अण्डरस्टैण्डिंग)|

सरश्री कहते हैं कि ‘सत्य के सभी मार्गों की शुरुआत अलग-अलग प्रकार से होती है लेकिन सभी के अंत में एक ही समझ प्राप्त होती है| ‘समझ’ ही सब कुछ है और यह ‘समझ’ अपने आपमें पूर्ण है| आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्ति के लिए इस ‘समझ’ का श्रवण ही पर्याप्त है|’

सरश्री ने ढाई  हजार से अधिक प्रवचन दिए हैं और सौ  से अधिक पुस्तकों की रचना की है| ये पुस्तकें दस से अधिक भाषाओं में अनुवादित की जा चुकी हैं और प्रमुख प्रकाशकों द्वारा प्रकाशित की गई हैं, जैसे पेंगुइन बुक्स, हे हाऊस पब्लिशर्स, जैको बुक्स, हिंद पॉकेट बुक्स, मंजुल पब्लिशिंग हाऊस, प्रभात प्रकाशन, राजपाल ऍण्ड सन्स इत्यादि|
Read more
4.4
117 total
Loading...

Additional Information

Publisher
WOW PUBLISHINGS PVT LTD
Read more
Published on
Sep 15, 2016
Read more
Pages
44
Read more
Language
Hindi
Read more
Genres
Body, Mind & Spirit / General
Self-Help / Spiritual
Read more
Content Protection
This content is DRM protected.
Read more
Read Aloud
Available on Android devices
Read more

Reading information

Smartphones and Tablets

Install the Google Play Books app for Android and iPad/iPhone. It syncs automatically with your account and allows you to read online or offline wherever you are.

Laptops and Computers

You can read books purchased on Google Play using your computer's web browser.

eReaders and other devices

To read on e-ink devices like the Sony eReader or Barnes & Noble Nook, you'll need to download a file and transfer it to your device. Please follow the detailed Help center instructions to transfer the files to supported eReaders.
 मानव जीवन का असली लक्ष्य है "अपना सत्य'' ढूँढ़ना जो शरीर, मन, बुद्धि के परे है। ...जो अपना होना, चेतना (Consciousness) की पहचान है, जो असली "मैं' है...जो असीम है, जो व्यक्तिगत अहंकार से परे है। वह ब्रह्माण्डीय यानी अव्यक्तिगत मैं' (Universal ''I'') है, जहॉं सभी के "एक' होने (एकात्मता और समग्रता ) का अनुभव है। असली अनुभव, जो शरीर और मन के परे का अनुभव है, उसका सिर्फ संकेत किया जा सकता है, उसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता। कहानियॉं केवल संकेत देती हैं।

वैसे तो हर महापुरुष का पूर्ण जीवन जानने और मनन करने योग्य है परंतु इस पुस्तक में कुछ महापुरुषों के जीवन से जुड़ी एक-एक घटना का समावेश किया गया है। ये घटनाएँ हमें कुछ न कुछ ऐसा सीखाकर जाएँगी, जिसकी जरूरत हमें आज है, अभी है और आपके हाथ में है।
Antahakaran has four parts: Mind, Intellect, Chit, and Ego. Each one has their distinct functions. At any certain time, only one of them is functional. What is Mind? Mind is made up of nodes. In the previous birth, due to ignorance, anything that we had attachment or abhorrence with, their parmanus collect together and become a node. The node, when comes into action in this birth, is known as a thought. A thought is discharge mind. When a thought comes, the Ego gets completely involved in it. If it hadn’t got involved, then the Mind would have eventually emptied by discharging. The second part of Antahakaran is Chit. The nature of chit is to wander. Mind never wanders. Chit keeps wandering in search of happiness. But since all this worldly happiness is temporary, therefore there never comes an end to its search. So it keeps wandering. After attaining the bliss of Soul, its wandering finally ends. Intellect (buddhi) is the indirect light of the Soul, and pragna is the direct light. The intellect always shows the worldly profits and losses whereas pragna always shows the path to Liberation. Mind is over the senses, intellect is over mind, ego is over the intellect, and Soul is above all of them. Intellect listens to either of the mind or the chit and then takes a decision and Ego being blind, goes according to the intellect. As soon as the Ego approves, the task begins to take place. The one who does Ego is the sufferer, he doesn’t do anything; he just believes that he did it. And at that very moment, he becomes the doer. So now he will have to be the sufferer too. When he attains the right knowledge that evidences are the doer and not me, then he gets off the seat of doer ship and doesn’t bind karmas. The Soul is just the knower and seer and is in eternal bliss. Only Gnani Purush is the one who remains separate from his antahakaran. By residing in their Soul, they can describe its exactness. In this book, Param Pujya Dadashri has given a beautiful and a clear description of Antahakaran. 
©2018 GoogleSite Terms of ServicePrivacyDevelopersArtistsAbout Google|Location: United StatesLanguage: English (United States)
By purchasing this item, you are transacting with Google Payments and agreeing to the Google Payments Terms of Service and Privacy Notice.