ALL-IN-ONE AARTI SANGRAH: AARTI SANGRAH

vikas yadav
1
Free sample

 This book “ALL-IN-ONE AARTI SANGRAH” is adorned with native hindi(avadhi) aartis of various of our gods and goddess.Most of people find difficulty in getting such ubiquitous quality rich hindi content .These all contents have been taken from various sources and are genuine as these are all chanted in all famous temples and most of homes of INDIA.I wish this book serves it purpose to the best of it can.
Read more

About the author

 Vikas kumar yadav is a newly emerging Engineering-cum hindi based writer hailing from India.He has done schooling from Khargone and is a well-known name as freelance writer.

Read more

Reviews

4.0
1 total
Loading...

Additional Information

Publisher
vikas yadav
Read more
Published on
Dec 27, 2014
Read more
Pages
35
Read more
Read more
Best For
Read more
Language
Hindi
Read more
Genres
Religion / Hinduism / Sacred Writings
Read more
Content Protection
This content is DRM protected.
Read more

Reading information

Smartphones and Tablets

Install the Google Play Books app for Android and iPad/iPhone. It syncs automatically with your account and allows you to read online or offline wherever you are.

Laptops and Computers

You can read books purchased on Google Play using your computer's web browser.

eReaders and other devices

To read on e-ink devices like the Sony eReader or Barnes & Noble Nook, you'll need to download a file and transfer it to your device. Please follow the detailed Help center instructions to transfer the files to supported eReaders.
महर्षि वेदव्यास
'श्रीमद्भगवद्गीता' आनन्दचिदघन, षडैश्वर्यपूर्ण, चराचरवन्दित, परमपुरुषोत्तम साक्षात् भगवान् श्रीकृष्ण की दिव्य वाणी है। यह अनन्त रहस्यों से पूर्ण है। परम दयामय भगवान् श्रीकृष्ण की कृपा से ही किसी अंश में इसका रहस्य समझ में आ सकता है। जो पुरुष परम श्रद्धा और प्रेममयी विशुद्ध भक्ति से अपने हृदय को भरकर भगवद्गीता का मनन करते हैं, वे ही भगवत्कृपा का प्रत्यक्ष अनुभव करके गीता के स्वरूप की किसी अंश में झाँकी कर सकते हैं। अतएव अपना कल्याण चाहनेवाले नर-नारियों को उचित है कि वे भक्तवर अर्जुन को आदर्श मानकर अपने में अर्जुन के-से दैवी गुणों का अर्जन करते हुए श्रद्धा-भक्तिपूर्वक गीता का श्रवण, मनन, अध्ययन करें एवं भगवान् के आज्ञानुसार यथायोग्य तत्परता के साथ साधन में लग जायँ। जो पुरुष इस प्रकार करते हैं, उनके अन्तःकरण में नित्य नये-नये परमानन्ददायक अनुपम और दिव्य भावों की स्फुरणाएँ होती रहती हैं तथा वे सर्वथा शुद्धान्तःकरण होकर भगवान् की अलौकिक कृपासुधा का रसास्वादन करते हुए शीघ्र ही भगवान् को प्राप्त हो जाते हैं।
Shri Krishna
श्रीमद् भगवद् गीता: यह गीता का टीका व विश्लेषण रहित हिन्दी अनुवाद है. गीता पर अनेक पुस्तकें व सन्दर्भ ग्रन्थ उपलब्ध हैं जो इसे समझने के लिए महत्वपूर्ण स्रोत हैं.
इन टीकाओं में टीकाकारों और अनुवादकों के अपने विचार, मत एवं मान्यताएं सम्मिलित हैं. एक ऐसे अनुवाद की आवश्यकता को पूरी करने के लिए इसका संकलन किया गया है जो मूल गीता की प्रकृति को यथा रूप में हिन्दी में प्रस्तुत करे. मूल संस्कृत भाषा के लिए पहले से ही अनेक पुस्तकें हैं.
यह अनुवाद प्रमाणिक व प्रचलित स्रोतों से संकलित है और इसका मुख्य उद्देश्य कंप्यूटर या टैबलेट पर पढने योग्य आलेख उपलब्ध करना है.

The Hindi only compact version of Shrimad Bhagwat Gita. Compiled from public sources. Now EPUB is also made available in addition to PDF format.




©2017 GoogleSite Terms of ServicePrivacyDevelopersArtistsAbout Google
By purchasing this item, you are transacting with Google Payments and agreeing to the Google Payments Terms of Service and Privacy Notice.