हिन्दी की यादगार कहानियां: Hindi Ki Yaadgaar Kahaniyan

Orient Paperbacks
Free sample

इन कहानियों को चुनते समय इस बात का ध्यान रखा गया है कि इनकी विषय-वस्तु और शैली चाहे जैसी भी हो, प्रत्येक कहानी में कोई-न-कोई ऐसी विशेषता अवश्य हो जो उस कहानी को औरों से अलग करती हो, याद रखने लायक बनाती हो।

इनमें कुछ कहानियां तो ऐसी हैं, जो बहुचर्चित रही हैं, लेकिन कुछ एक ऐसी भी हैं जो आम पाठकों और आलोचकों की नज़र से ओझल रही हैं अथवा साहित्यिक या ऐतिहासिक महत्त्व की हैं।

इन कहानियों को चुनते समय यह ख्याल भी रखा गया है कि कहानी आम पाठक के दिमाग़ को ही नहीं, उसके दिल को भी छू ले, यानी मार्मिक हो। इसके साथ-साथ वह उस कहानीकार की चर्चित कहानियों में से हो और जीवन के किसी अनूठे पहलू को भी उद्घाटित करे। कुल मिलाकर कहानियां अपने समग्र रूप में एक ऐसी तस्वीर पेश करें, जिसमें भारतीय जन-जीवन की झांकी नज़र आये।

अन्त में, यह गौर-तलब है कि अच्छी रचनाएं अपने समय में ही चर्चित और प्रासंगिक नहीं होतीं, बल्कि आगे भी रचनाकारों को प्रेरित करती रहती हैं। ‘हिन्दी की यादगार कहानियां’ इस कसौटी पर खरी उतरती है।

Read more
Collapse

About the author

नीलाभ का जन्म (16 अगस्त, 1945 - 23 जुलाई 2016) मुंबई में हुआ। पढ़ाई के दौरान ही लेखन की शुरूआत की। चार वर्ष बी.बी.सी. की विदेश प्रसारण सेवा में प्रोड्यूसर रहे।

इनके प्रमुख कविता-संग्रह ‘संस्मरणारम्भ’, ‘अपने आप से लम्बी बातचीत’, ‘जंगल ख़ामोश है’, ‘उत्तराधिकार’, ‘चीजें उपस्थित हैं’, ‘शब्दों से नाता अटूट है’, ‘शौक का सुख’, ‘ख़तरा अगले मोड़ की उस तरफ़ है’ और ‘ईश्वर को मोक्ष’ हैं।

इन्होंने शेक्सपियर, ब्रेश्ट तथा लोर्का के नाटकों के रूपान्तर किये जो बहुत बार मंच पर प्रस्तुत हो चुके हैं। रंगमंच के साथ-साथ टेलीविज़न, रेडियो, पत्रकारिता, फ़िल्म, ध्वनि-प्रकाश कार्यक्रमों तथा नृत्य-नाटिकाओं के लिए भी इन्होंने पटकथाएँ और आलेख लिखे।

हिन्दी के साहित्यिक विवादों, साहित्यिक केन्द्रों और मौखिक इतिहास पर नीलाभ की शोधपरक परियोजना ‘स्मृति संवाद’ (चार खण्डों में) और ललित और वैचारिक गद्य के तीन संग्रह शीघ्र प्रकाशित होंगे। आप फ़िल्म, चित्रकला, जैज़ तथा भारतीय संगीत में खास दिलचस्पी रखते हैं।

Read more
Collapse
Loading...

Additional Information

Publisher
Orient Paperbacks
Read more
Collapse
Published on
Jan 29, 2019
Read more
Collapse
Pages
228
Read more
Collapse
ISBN
9788122206043
Read more
Collapse
Read more
Collapse
Read more
Collapse
Language
Hindi
Read more
Collapse
Genres
Fiction / Anthologies (multiple authors)
Read more
Collapse
Content Protection
This content is DRM protected.
Read more
Collapse
Read Aloud
Available on Android devices
Read more
Collapse

Reading information

Smartphones and Tablets

Install the Google Play Books app for Android and iPad/iPhone. It syncs automatically with your account and allows you to read online or offline wherever you are.

Laptops and Computers

You can read books purchased on Google Play using your computer's web browser.

eReaders and other devices

To read on e-ink devices like the Sony eReader or Barnes & Noble Nook, you'll need to download a file and transfer it to your device. Please follow the detailed Help center instructions to transfer the files to supported eReaders.
हिंदुस्तान और पाकिस्तान की बेहतरीन और यादगार कहानियों का उस्तादाना संकलन।

उर्दू हिन्दुस्तान महाद्वीप की ज़ुबान है — भारत की भाषा है — जो पेशावर से बिहार और बंगाल तक लिखी-समझी जाती है। उर्दू कहानी हमारी सभ्यता, तहज़ीब, तारीख़ और सामूहिक मानस का सच्चा आईना है।

कहानियों की पहचान मुल्क या भाषा से नहीं बल्कि इन्सानी ज़िन्दगी से होती है जो कभी घटिया स्वार्थी झगड़ों में उलझ जाती है और कभी इन झगड़ों से उठ कर इन्सानियत को एक पाक खूबसूरती देती है।

यह वह कहानियां हैं जिन्होंने नई ज़मीन तोड़ीं और जिन्हें मील का पत्थर माना जाता है। हर कहानी अपने दौर के किरदार, घटनाओं और माहौल को वास्तविकता देती है; इस बात पर हावी है कि जो कुछ जैसा है वैसा ही पेश किया जाये। हर कहानी अपने समय की सामाजिक सोच, मान्यताओं और प्रव़त्तियों की पृष्ठभूमि में ऐसे तीखे सवाल उठाती है जो हमें सोचने पर मजबूर करते हैं।

उर्दू की यादगार कहानियों के मजमूनों का लम्बा-चौड़ा दायरा, उस्तादाना अन्दाज़ में लेखन-शैली और अनन्त अपील इन कहानियों को सबसे ऊंचे दर्जे की कहानियों में ला खड़ा करती है।

शुभ यात्रा भारत में प्रकाशित होने वाला संभवतः कहानियों का ऐसा पहला संग्रह है जो सड़क-सुरक्षा पर केंद्रित है I सड़क दुर्घटनाएँ बहुत भयानक होती हैं, लेकिन इनकी सच्चाई से बचा नहीं जा सकता I सड़क दुर्घटनाओं पर प्रकाशित साहित्य आमतौर पर शैक्षणिक अध्ययन या तकनीकी रिपोर्ट और कभी-कभार बाल-कथाओं के रूप में ही मिलता है I इस बहुत ही गंभीर और प्रासंगिक विषय को कहानियों के माध्यम से प्रस्तुत करने का यह अपनी तरह का पहला प्रयास है, जिसमें कुछ जाने-माने और कुछ उदीयमान लेखकों की कहानियाँ शामिल की गयी हैं I 

इन कहानियों की शैली एक दूसरे से काफ़ी अलग है I कुछ में असहाय पीड़ितों की बदकिस्मती भरा रुदन सुनाई देता है तो कुछ में सख़्त नैतिकता का संदेश निहित है I कुछ में उन दुर्घटनाओं का भयावह चित्रण है जिन्हें लेखकों ने देखा या कल्पना की I कुछ कहानियों में आशा और नेकी की भी झलक मिलती है I इन कहानियों का मकसद भयभीत करना नहीं, बल्कि पाठकों को झकझोरना और सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक करना है I इसकी हर कहानी पाठकों पर प्रभाव छोड़ेगी और उन्हें सोचने तथा अमल करने के लिए भी प्रेरित करेगी I 

©2019 GoogleSite Terms of ServicePrivacyDevelopersArtistsAbout Google|Location: United StatesLanguage: English (United States)
By purchasing this item, you are transacting with Google Payments and agreeing to the Google Payments Terms of Service and Privacy Notice.