Vande Janani: Kawya Dhara Kranti Ewam Prem Ki

Notion Press
Free sample

Love in the form of poetry, sacrifice in the form of poetry, tears in the form of poetry and poetry in which few lines say everything. Let’s feel the love, let’s feel the sacrifice, let’s feel the tears, let’s wake up for a revolution.
Read more
Collapse

About the author

Mukesh Kumar Mahapatra lives in a village near Jamshedpur (Jharkhand). After completing his graduation, he went back to his village and has been involved in social work. He currently works as a teacher. He provides education to poor students who can’t afford to pay for it. He feels that only education can bring success to his country. Vande Janani is his first book, in which he is trying to show his love for his motherland and the society and, the sacrifice of the martyrs.
Read more
Collapse
Loading...

Additional Information

Publisher
Notion Press
Read more
Collapse
Published on
Feb 6, 2016
Read more
Collapse
Pages
158
Read more
Collapse
ISBN
9781945400452
Read more
Collapse
Features
Read more
Collapse
Read more
Collapse
Language
Hindi
Read more
Collapse
Genres
History / Asia / India & South Asia
Read more
Collapse
Content Protection
This content is DRM free.
Read more
Collapse
Read Aloud
Available on Android devices
Read more
Collapse

Reading information

Smartphones and Tablets

Install the Google Play Books app for Android and iPad/iPhone. It syncs automatically with your account and allows you to read online or offline wherever you are.

Laptops and Computers

You can read books purchased on Google Play using your computer's web browser.

eReaders and other devices

To read on e-ink devices like the Sony eReader or Barnes & Noble Nook, you'll need to download a file and transfer it to your device. Please follow the detailed Help center instructions to transfer the files to supported eReaders.
उनके पुरखे जलजला ला देने वाली ताकत के मालिक थे और वे आठ सौ सालों से तलवार चला रहे थे। उनकी सेनाओं ने बगदाद और खुरासान से चलकर, हिन्दूकुश पर्वत पार कर लिया था और अब वे गंगा-जमुना के मैदानों पर राज कर रहे थे किंतु गुहिलों का अरावली पहाड़ अब तक उनकी पहुंच से बाहर था। खुरासान से आया बादशाह अकबर, अरावली के गर्वित मस्तक को झुकाने के लिये कृतसंकल्प था।

आठ सौ सालों से खुरासानियों से मोर्चा ले रहे गुहिल भी तैयार थे। हल्दीघाटी में एक अवसर था जब, गुहिल इस लड़ाई को उसके अंतिम परिणाम तक पहुंचा देते किंतु स्थितियां तब विषम हो गईं जब सदियों से गुहिलों के अधीन रहकर देश के शत्रुओं से लड़ते आ रहे उत्तर भारत के क्षत्रिय राजाओं ने अकबर की चाकरी स्वीकार कर ली। वे भी अकबर की सहायता के लिए महाराणा प्रताप के विरुद्ध अपनी तलवारें ले आए थे।

महाराणा प्रताप ने हार नहीं मानी। वह लड़ा और तब तक लड़ता रहा जब तक उसने अकबर से मेवाड़ का चप्पा-चप्पा नहीं छीन लिया। पढ़िये रोंगटे खड़े करने वाले इस युद्ध का इतिहास, आधुनिक समय के सबसे चर्चित इतिहासकार डॉ. मोहनलाल गुप्ता की लेखनी से।
महाराजा सूरजमल अठारहवीं सदी के महान योद्धा थे। उनका जन्म ऐसे समय में हुआ जब उत्तर भारत की राजनीति जबर्दस्त हिचकोले खा रही थी तथा देश विनाशकारी शक्तियों द्वारा जकड़ लिया गया था। नादिरशाह तथा अहमदशाह अब्दाली ने उत्तर भारत में बहुत बड़ी संख्या में मनुष्यों तथा पशुओं को मार डाला और तीर्थों तथा मंदिरों को नष्ट कर दिया। देश पर चढ़कर आने वाले आक्रांताओं को रोकने वाला कोई नहीं था।

उस काल में उत्तर भारत के शक्तिशाली राजपूत राज्य, मराठों की दाढ़ में पिसकर छटपटा रहे थे। होलकर, सिंधिया, गायकवाड़ और भौंसले, उत्तर भारत के गांवों को नौंच-नौंच कर खा रहे थे। जब एक मराठा सरदार चौथ और सरदेशमुखी लेकर जा चुका होता था तब दूसरा आ धमकता था। बड़े-बड़े महाराजाओं से लेकर छोटे जमींदारों की बुरी स्थिति थी। जाट और मराठे निर्भय होकर भारत की राजधानी दिल्ली के महलों को लूटते थे। जब शासकों की यह दुर्दशा थी तब जन-साधारण की रक्षा भला कौन करता! भारत की आत्मा करुण क्रंदन कर रही थी।

चोरों ओर मची लूट-खसोट के कारण जन-जीवन की प्रत्येक गतिविधि- कृषि, पशुपालन, कुटीर धंधे, व्यापार, शिक्षण, यजन एवं दान ठप्प हो चुके थे। शिल्पकारों, संगीतकारों, चित्रकारों, नृतकों और विविध कलाओं की आराधना करने वाले कलाकार भिखारी होकर गलियों में भीख मांगते फिरते थे। निर्धनों, असहायों, बीमारों, वृद्धों, स्त्रियों और बच्चों की सुधि लेने वाला कोई नहीं था। ऐसे घनघोर तिमिर में महाराजा सूरजमल का जन्म उत्तर भारत के इतिहास की एक अद्भुत घटना थी।

उन्होंने हजारों शिल्पियों एवं श्रमिकों को काम उपलब्ध कराया। ब्रजभूमि को उसका क्षीण हो चुका गौरव लौटाया। गंगा-यमुना के हरे-भरे क्षेत्रों से रूहेलों, बलूचों तथा अफगानियों का खदेड़कर किसानों को उनकी धरती वापस दिलवाई तथा हर तरह से उजड़ चुकी बृज भूमि को धान के कटोरे में बदल लिया। उन्होंने मुगलों और दुर्दान्त विदेशी आक्रान्ताओं को भारतीय शक्ति से परिचय कराया तथा चम्बल से लेकर यमुना तक के विशाल क्षेत्रों का स्वामी बन कर प्रजा को अभयदान दिया। इस लघु पुस्तिका में महाराजा सूरजमल के उसी अवदान को भारत की युवा पीढ़ी तक पहुंचाने का प्रयास किया गया है।
सिकंदर के भारत में आने से भी बहुत पहले, रोम के शासक ने कहा था- भारतीयों के बागों में मोर, उनके खाने की मेज पर काली मिर्च तथा उनके बदन का रेशम, हमें पागल बना देता है। हम इन चीजों के लिये बर्बाद हुए जा रहे हैं। एलेक्जेण्ड्रिया के सिकंदर से लेकर, शक, कुषाण, हूण, ईरानी, तूरानी, अफगानी, मुगल, मंगोल, पुर्तगाली, डच तथा फ्रैंच आदि अनेकानेक जातियां भारत में घुसीं। बहुतों के तो अब इतिहास भी मिट गये। किसी को हाथी चाहिये थे तो किसी को कपास। किसी को सोना चाहिये था तो किसी को गरम मसाले। किसी को दशरथ नंदन राम ने लुभाया था तो किसी को बुद्ध के उपदेशों ने।

सबसे अंत में आने वाले अंग्रेज थे जो मोर, काली मिर्च या रेशम के लिये नहीं अपितु भारत के कण-कण से वह सब कुछ ले जाने के लिये आये थे जो इंगलैण्ड को संसार का सबसे धनी देश बना दे। इंगलैण्ड ने भारत से वो सब कुछ लूटा। उन्होंने राजाओं के राज छीन लिए, रानियों को दर-दर की ठोकरें खिलाईं। नवाबों को पैरों से ठुकराया और बेगमों के खजाने छीन लिए। रानी विक्टोरिया के राज्य में सूरज नहीं डूबता था। फिर भी भारत इंगलैण्ड की रानी के मुकुट में जड़ा हुआ सबसे कीमती हीरा था।

अंग्रेजों ने स्वप्न में भी नहीं सोचा था कि एक दिन उन्हें भारत से वापस जाना पड़ेगा किंतु इतिहास ने अंग्रेजों के भारत से वापस जाने की तिथि भी निश्चित कर रखी थी। एक दिन उन्हें भीगी आंखों, दिल में उठती सिसकियों और उफनती भावनाओं को लेकर वापस जाना ही पड़ा। सुप्रसिद्ध इतिहासकार डॉ. मोहनलाल गुप्ता ने इस पुस्तक में अंग्रेजों के राजपूताना रियासतों में आने से लेकर वापस जाने तक हुई रोचक घटनाओं को उनकी ऐतिहासिक प्रामाणिकता के साथ लिखा है। एक बार पढ़ना आरम्भ करने के बाद इसे पूरा पढ़कर ही उठ पाएंगे।
©2020 GoogleSite Terms of ServicePrivacyDevelopersArtistsAbout Google|Location: United StatesLanguage: English (United States)
By purchasing this item, you are transacting with Google Payments and agreeing to the Google Payments Terms of Service and Privacy Notice.